Sunday, January 20, 2019
Home > आपका संवाद > शीर्षक ” माँ ” पर कुछ कवि एवं साहित्यकारों के रचनात्मक विचार

शीर्षक ” माँ ” पर कुछ कवि एवं साहित्यकारों के रचनात्मक विचार

1-
माँ के क़दमों में है जन्नत ये बताने वाले
मुझको लगता है कि जन्नत से वो आगे न गए
दीक्षित दनकौरी
2-
जीवन के हर मोड़ पर, छले गए हर बार।
मां की ममता साथ थी,हार गया संसार।।
सरिता गुप्ता
दिल्ली
3-
माँ जीवन का सार है, माँ है तो संसार।
माँ बिन जीवन लाल का,समझो है बेकार।।
लाल बिहारी लाल
4–
रहे खुद भूखी फिर भी , दे पेट भर खाना |
भाव है उसका ऐसा ,खिला खुश हो जाना ||
संजय वर्मा “दृष्टि” मनावर 
5–
मैं घंटे बतियाता हूं माँ की कब्र से,
एै “रंग”–एैसा लगता है की जैसे,
माँ की कब्र से भी
अपने बेटे को दुआ आती है।
रंगनाथ द्विवेदी।
6–
माँ के कदमो में रहूँ, टूटे सभी गुरूर !
माँ ममता की छाव से , कभी न रखना दूर !!
कृष्णा नन्द तिवारी 
7–
माँ से ही संसार है,माँ ही ममता रूप।
देती सबको छाँव है,खुद सहती है धूप।।
मनोज कामदेव
8–
जाकर छत पर देखता ,चंदा तारे रोज ।
माँ उसको मिलती नहीं ,बालक करता खोज ।।
संजय कुमार गिरि
9–
मांग लूं यह मन्नत ,फिर यही जहाँ मिले
फिर यही गोद मिले , फिर यही माँ मिले
माधवी राठी
10-
सुख-दुख दोनों में रहे, कोमल और उदार।
कैसी भी सन्तान हो, माँ देती है प्यार।।
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *