Monday, December 10, 2018
Home > स्वास्थ्य > आधुनिक जीवन शैली से युवकों में बढ़ी दिल की बीमारियां

आधुनिक जीवन शैली से युवकों में बढ़ी दिल की बीमारियां

विनोद कुमार
युवाओं में दिल के दौरे का खतरा तेजी से बढ़ रहा है और अध्ययनों से इसकी पुष्टि भी हुई है। इन अध्ययनों के अनुसार अस्पताल में भर्ती होने वाले करीब 30 प्रतिशत मरीज 40 साल से कम उम्र के होते हैं। युवाओं में मुख्य तौर पर धूम्रपान की लत, कामकाज से जुड़े अथवा कामकाज से इतर कारणों से होने वाले तनाव, अस्वास्थ्यकर आहार, अपर्याप्त शारीरिक श्रम तथा अधिक नमक वाले एवं पैकेट वाले खाद्य पदार्थों के सेवन के कारण दिल के दौरे बढ़ रहे हैं।
यह पाया गया है कि जो युवक दिन भर में 10 सिगरेट पीते हैं उनके दिल की समस्याएं होने की आशंका 50 फीसदी बढ़ जाती है। धूम्रपान एवं गलत-खानपान से कॉलेस्ट्रोल का स्तर बढ़ जाता है जिससे दिल की धड़कन 50 प्रतिशत बढ़ जाती है और रक्त चाप 30 प्रतिशत बढ़ जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार कार्डियो वैस्कुलर रोगों से हर साल दुनिया भर में 17 लाख 70 हजार लोगों की मौत होती है।
जाने-माने कार्डियोलॉजिस्ट डा. आर. एन. कालरा बताते हैं कि युवाओं में दिल के दौरे का खतरा तब नहीं घटने वाला है जब तक कि कोई ठोस कदम नहीं उठाया जाएगा। आज की समस्या यह है कि हम बहुत ही स्थूल जीवन शैली को अपना रहे हैं और ऐसी जीवन शैली में बहुत अधिक शारीरिक श्रम की गुंजाइश नहीं है। आज युवा मानसिक तथा शारीरिक तौर पर बहुत ही अधिक दवाब में है। इस समस्या का मुख्य समाधान यह है कि हम अपनी जीवन शैली में व्यापक बदलाव लाएं और अगर ऐसा करते हैं तो इससे समय से पूर्व होने वाले दिल के दौरे को रोका जा सकता है।
नई दिल्ली के कालरा हास्पीटल एंड श्री राम कार्डियो-थोरेसिक न्यूरोसाइंसेस सेंटर (एसआरसीएनसी) के मेडिकल निदेशक एवं सीईओ डा. कालरा कहते हैं, ‘‘युवा हमारे देश के स्तंभ हैं और युवाओं के स्वास्थ्य संबंधी मसलों पर ध्यान दिया जाना चाहिए। सभी बीमारियों में से कार्डियो वैस्कुलर रोग समेत गैर संचारी रोग उनके लिए सबसे बड़े खतरे हैं। आधुनिक जीवन शैली इसके लिए सबसे अधिक जिम्मेदार है। दिल के दौरे का कारण बनने वाली जीवन शैली से जुड़ी अन्य आदतों में व्यायाम नहीं करने की आदत और जंक फुड का अधिक सेवन शामिल है। इसके अलावा आज के समय में युवा लोग अपना वक्त स्मार्टफोन, टेब, कम्प्यूटर, लैपटॉप  आदि के जरिए व्यतीत करते हैं जो हमारे दिल के लिए बहुत अधिक नुकसानदायक है।
डा. कालरा ने कहा, ‘‘हमारे देश में कार्डियोवैस्कुलर रोग मौत के प्रमुख कारणों में से एक बन गए हैं। मेरे पास ऐसे कई मरीज इलाज के लिए आए हैं जो अपनी जीवन शैली के कारण कार्डियोवैस्कुलर रोग से ग्रस्त हो गए। इसके अलावा हम अपने रोजमर्रे के जीवन में काफी अधिक तनाव का सामना करते हैं और इसके कारण भी हमारा दिल खतरे में घिरा हुआ है। ऐसे में यह जरूरी है कि धूम्रपान, शराब सेवन और जंक फुड आदि से दूर रहें तथा शारीरिक श्रम करें। हम चाहते हैं कि लोग फिट रहने, अच्छा खान पान तथा तनाव रहित जीवन जीने के महत्व को समझें ताकि वे लंबे समय तक दिल की बीमारियों से बचे रह सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *