Tuesday, April 23, 2019
Home > दिल्ली > कांग्रेस टाइटलर को अपने समागमों में पेश करके 1984 सिख हत्याकांड के गवाहों को धमकाने के लिए तैयार : सिरसा

कांग्रेस टाइटलर को अपने समागमों में पेश करके 1984 सिख हत्याकांड के गवाहों को धमकाने के लिए तैयार : सिरसा

संवाददाता (दिल्ली) शिरोमणी अकाली दल के विधायक और राष्ट्रीय वक्ते श्री मनजिन्दर सिंह सिरसा ने आज कहा कि कांग्रेस की प्रधान नियुक्त हुई शीला दीक्षित की ताजपोशी समागम में 1984 सिख हत्याकांड के दोषी जगदीश टाइटलर को सामने वाली लाईन में बिठा कर कांग्रेस पार्टी ने 1984 सिख हत्याकांड मामलों के गवाहों को धमकाने और उन को मामलों में दोषियों के खिलाफ गवाहियां देने से रोकने का प्रयत्न किया है।
यहां जारी किए एक बयान में श्री सिरसा ने कहा कि सज्जण कुमार को दोषी ठहराए जाने के बाद कांग्रेस बुखला गई है और अपने नेताओं, जिसकी जिम्मेदारी इसने 1984 सिख हत्याकांड के लिए लगाई थी, की चमड़ी बचाने के लिए तैयार हुई पार्टी पीडि़तों के परिवारों और गवाहों को अपनी ताकत दिखाने के लिए दोषियों को अपने समागमों में प्रमुखता के साथ दिखा रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस अब घबराई हुई है क्योंकि वह जानती है कि 1984 सिख हत्याकांड के मामलों में कमल नाथ और टाइटलर को भी सजा होनी निश्चित है।
श्री सिरसा ने कहा कि जगदीश टाइटलर सिख हत्याकांड के दोषियों में से एक है जिसको गांधी परिवार के साथ नजदीकी की वजह से इन सालों दौरान न्यायिक पंजे की पकड़ में से छूट मिलती रही। उन्होंने कहा कि वास्तविकता यह है कि संसद में पेश की गई नानावती कमीशन की रिपोर्ट में साफ लिखा है कि जगदीश टाइटलर, सज्जण कुमार और एच.के.एल. भक्त दोषी हैं। टाइटलर ने गांधी परिवार के साथ अपनी नजदीकी का लाभ लिया और था बीज आई से क्लीन चिट हासिल कर ली, हालांकि उसका नाम कई कमीशनरों और जांच रिपोर्टों में लिखा गया था। इतना ही नहीं बल्कि उसने कांग्रेस की सरप्रस्ती की वजह से कांग्रेस के नेतृत्व में की सरकारों में मंत्रियों के रुतबे भी हासिल किए।
उन्होंने कहा कि सिखों के जख्मों पर टाइटलर ने नमक तब छिडक़ा जब उसने पिछले साल एक टी भी इंटरव्यू दौरान खुद माना था कि राजीव गांधी ख़ुद उसके साथ कार में बैठ कर गए थे और सिखों की लाशें देखें थीं। उन्होंने कहा कि टाइटलर ने इंटरव्यू दौरान यह बात इस लिए कही जिससे गांधी परिवार को संकेत मिल सके कि यदि वह फंसा तो फिर गांधी परिवार भी फंसेगा जो कि अब तक उसको बचाता आया है।
उन्होंने कहा कि आज कांग्रेस ने शीला दीक्षित के ताजपोशी समागम में जगदीश टाइटलर को सब से आगे की कतार में बिठाया जिससे कि वह गवाहों को डरा सके।
सिरसा ने कहा कि संदेश बहुत स्पष्ट है कि कांग्रेस टाइटलर की पुरजोर हिमायत करती है और 1984 हत्याकांड के मामलों के गवाहों को खुद पीछे हट जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि टाइटलर को अहमीयत देना न्यायपालिका का भी अपमान है क्योंकि हाई कोर्ट ने सज्जण कुमार केस में 34 सालों तक दोषियों को राजनैतिक पुशपनाही मिलने की बात सीधे तौर पर कही थी।
अकाली दल के वक्तो ने फिर दोहराया कि शिरोमणी अकाली दल, दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी और शिरोमणी कमेटी पीडि़तों की मदद करन और मामलों को इन के नतीजे तक लेजाने के लिए द्रढ़ है और टाइटलर और अन्य दोषियों को सलाखें पीछे करवा कर ही साँस ली जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *