Wednesday, June 26, 2019
Home > ब्यापार > लॉट्स होलसेल सॉल्यूशंस ने भारत में तीसरे स्टोर के साथ अपना विस्तार किया

लॉट्स होलसेल सॉल्यूशंस ने भारत में तीसरे स्टोर के साथ अपना विस्तार किया

संवाददाता (दिल्ली) 50 बिलियन अमेरिकी डॉलर के खैरोएन पोकफंड ग्रुप (सीपी ग्रुप) के अंग एवं थाईलैंड की सियाम मैक्रो पब्लिक कंपनी लिमिटेड (सियाम मैक्रो) की पूर्ण अधिग्रहीत सब्सिडियरी,लॉट्स होलसेल सॉल्यूशंस ने आज इथम,सेक्टर 62, नोएडा में अपने तीसरे होलसेल वितरण केंद्र का उद्घाटन किया। 2018 में कंपनी ने नेताजी सुभाष प्लेस और अक्षरधाम में अपने स्टोरों का उद्घाटन किया था। ये तीनों स्टोर सात महीनों के अंदर खुले और यह दिल्ली-एनसीआर में 1,40,000 रजिस्टर्ड ग्राहकों को सेवाएं देंगे।
नोएडा स्थित लॉट्स होलसेल सॉल्यूशंस स्टोर कंपनी की उत्तरप्रदेश में 250 करोड़ रु. के निवेश की योजना के अन्तर्गत पहला कदम है। इस विस्तार योजना के तहत आने वाले सालों में राज्य में और ज्यादा स्टोर खोले जाएंगे।
नोएडा में नया स्टोर 50,000 वर्गफीट के क्षेत्र में फैला है और यह ग्राहकों को फूड एवं नॉन-फूड श्रेणियों में 5,500 से अधिक चयनित उत्पाद प्रदान करेगा। यह स्टोर नज़दीकी क्षेत्रों में स्थित किराना,होटल,रेस्टोरैंट एवं केटरर्स (होरेसा) सहित विविध तरह के ग्राहकों, कॉर्पोरेट, एमएसएमई एवं सरकारी एजेंसियों, शैक्षिक संस्थानों एवं अस्पतालों को सेवाएं प्रदान करेगा।

अपने तीसरे स्टोर की घोषणा के अलावा लॉट्स होलसेल सॉल्यूशंस ने अपने ब्रांड बेसिक प्लस एवं प्लसमो भी लॉन्च किए, जिनका उद्देश्य किफायती मूल्यों में सर्वश्रेष्ठ गुणवत्ता के उत्पाद उपलब्ध कराना है। इन ब्रांडों के तहत पेश की गई पहली दो उत्पाद श्रेणियां बेकरी का सामान एवं होम-क्लीनिंग हैं।
भारत में तीसरे स्टोर के लॉन्च के बारे में लॉट्स होलसेल सॉल्यूशंस के मैनेजिंग डायरेक्टर तनित शेरवानोंट ने कहा,”विजय के हमारे मूल्यों का अनुशरण करते हुए हमने खुद से ही बेहतर प्रदर्शन कर सात महीनों में तीसरे स्टोर का अनावरण किया है। अपने वायदे के अनुसार हमने 2018 में अपने दो स्टोर खोलें। दिल्ली-एनसीआर के बाद विस्तार के लिए उत्तरप्रदेश स्वाभाविक पसंद है, क्योंकि इस राज्य में बाजार के जबरदस्त अवसर मौजूद हैं। भारत में बिज़नेस करने की हमारी क्लस्टर कार्ययोजना में यह बिल्कुल फिट है। सरकारी सहयोग के द्वारा हमारा उद्देश्य राज्य में किसानों,कारोबारियों एवं अपने व्यापार के लिए पारस्परिक वृद्धि का मार्ग प्रशस्त करना है। हम उनके साथ मिलकर काम करेंगे और उनके उत्पादों के लिए मजबूत सप्लाई चेन तथा मांग का निर्माण करेंगे।”

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *