Sunday, July 21, 2019
Home > दिल्ली > पावर केबल एलायंस ने इलेक्ट्रिकल फायर सेफ्टी पर एक सेमिनार का आयोजन किया

पावर केबल एलायंस ने इलेक्ट्रिकल फायर सेफ्टी पर एक सेमिनार का आयोजन किया

संवाददाता (दिल्ली) इंटरनेशनल कॉपर एसोसिएशन इंडिया (आईसीए इंडिया) ने फायर एंड सिक्योरिटी एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एफएसएआई) के साथ मिलकर आज इलेक्ट्रिकल फायर सेफ्टी पर एक सेमिनार का आयोजन किया। सेमिनार में बिजली के लिए ऐसे सुरक्षित, विश्वसनीय और कुशल बुनियादी ढांचे की आवश्यकता पर विचार-विमर्श किया गया जो न केवल देश की तरक्की में योगदान देने वाला हो बल्कि हादसों को रोकने में भी महती भूमिका निभाए।
सेंट्रल इलेक्ट्रिसिटी अथॉरिटी इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, आग लगने की बढ़ती दुर्घटनाओं में दोषपूर्ण इलेक्ट्रिकल सिस्टम का भी हाथ है। देश भर में विद्युत शक्ति की बढ़ती मांग के साथ, वर्तमान विद्युत बुनियादी ढांचे की गुणवत्ता, विश्वसनीयता और दक्षता में सुधार की आवश्यकता और अधिक महसूस की जा रही है। फायरसेफ इंडिया 2019 की सामूहिक दृष्टि को साकार करने के प्रयास के रूप में, आईसीए इंडिया और एफएसएआई ने आपसी सहयोग करते हुए भारत में बिजली के बुनियादी ढांचे की विश्वसनीयता और दक्षता पर चर्चा करने के लिए कदम उठाया था।
पूरे दिन चले इस सेमिनार में प्रमुख सुरक्षा विशेषज्ञों, विद्युत सलाहकारों और केबल निर्माताओं ने भाग लिया। संगोष्ठी में चर्चा के मुख्य विषय थे, इलेक्ट्रिकल फायर को रोकने के लिए नेशनल बिल्डिंग कोड की भूमिका, नवाचारी समाधानों के माध्यम से सुरक्षा में उत्कृष्टता प्राप्त करना, नेतृत्व की प्रतिबद्धता और सुविधाएं, विद्युतीय मानकों में सर्वोत्तम प्रथाओं को शामिल करना, अग्नि सुरक्षा को बढ़ाने में चुनौतियां और कार्रवाई आदि शामिल थे। संगोष्ठी में विभिन्न हितधारकों को एक साझा मंच पर लाकर विद्युत अग्नि सुरक्षा से संबंधित कुछ प्रमुख मुद्दों को संबोधित किया गया।
आईसीए इंडिया के प्रबंध निदेशक संजीव रंजन ने इस विषय पर विस्तार से चर्चा करते हुए कहा, ‘हम आईसीए इंडिया में हमेशा विद्युत सुरक्षा के बेहतर मानकों के प्रवर्तक रहे हैं। अग्नि दुर्घटनाओं की बढ़ती संख्या के मद्देनजर हमने मौजूदा नियमों और कोडों में कमियों को दूर करने के लिए इसे बहुत जरूरी माना है। एक मजबूत बुनियादी ढांचा, एक स्थायी अर्थव्यवस्था की महत्वपूर्ण आवश्यकता है और इसलिए हमने अन्य हितधारकों के साथ मिल कर फायरसेफ इंडिया पहल का हिस्सा बनने का फैसला किया है। हमें उम्मीद है कि इस सेमिनार का परिणाम बेहतर होगा और कुछ महत्वपूर्ण समाधान निकल कर आएंगे।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *