Tuesday, April 23, 2019
Home > दिल्ली > गुरुद्वारा मजनू का टीला साहिब में मनाया गया खालसा साजना बैसाखी दिवस

गुरुद्वारा मजनू का टीला साहिब में मनाया गया खालसा साजना बैसाखी दिवस

संवाददाता (दिल्ली) खालसा के साजना दिवस बैसाखी पर्व के अवसर पर दिल्ली स्थित गुरुद्वारा मजनू का टीला साहिब में अमृत वेले से लेकर शाम तक विशेष गुरमत समागम कराया गया। जिसमें पंथ प्रसिद्ध रागी जत्थों ने गुरबाणी के मनोहर कीर्तन से संगतों को निहाल किया। इस अवसर पर दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष स. मनजिन्दर सिंह सिरसा ने संगतां को बैसाखी पर्व की बधाईयां देते हुए कहा कि आज का दिन हिन्दुस्तान में ही नहीं बल्कि देश से बाहर भी बड़ी शानो-शौकत से सिखों द्वारा वहां की सरकारों एवं वासियों के सहयोग से मनाया जाता है। उन्होंने कहा कि दिल्ली कमेटी जैसी अग्रणी संस्था जो सिखों के हकों की रक्षा एवं इतिहास से संसार भर के लोगों को अवगत करवाने के लिए हमेशा अग्रणी कतार में खड़ी रहती है, यह सबकुछ आपलोगों के सहयोग से ही करने में समर्थ है। उन्होंने 550वीं वर्षगांठ गुरु नानक देव जी के प्रकाश पर्व की मनाने की चल रही तैयारियों एवं गुरू साहिबान, सिख शहीदों, सिख जरनैलों एवं अन्य इतिहास जिन्हें सरकारों ने नजरअंदाज कर आम लोगों तक नहीं पहुंचाया गया, उसे दिल्ली कमेटी द्वारा सोशल मीडिया पर क्षेत्रीय भाषाओं में 2-3 मिन्ट की वीडियों क्लिप द्वारा दिखाने और गुरुद्वारा बंगला साहिब, गुरुद्वारा शीशगंज साहिब एवं अन्य ऐतिहासिक गुरुद्वारों पर सोशल मीडिया, फेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्वीट्र पर कीर्तन प्रोग्राम लाईव करने के बारे में भी संगतांं को बताया।
स. सिरसा ने सिक्ख नौजवानों को अपील करते हुए कहा कि हमें अपनी निजी लड़ाई को 1984 के कत्लेआम से नहीं जोड़ना चाहिये। हमारे भाई-बहनों जिन्होंने 1984 का दंश अपने शरीर पर सहा है, उन्हें इस दुख के बारे में पूछ कर देखो। सरकारे-दरबारे एवं अदालतों में जाकर हमें कत्लेआम के दोषियों को सजा दिलवाने और इंसाफ के लिए आज तक क्या कुछ नहीं करना पड़ रहा है इस बात से कोई भी अनजान नहीं है। 1984 हिन्दुस्तान के लोकतंत्र पर एक ऐसा काला धब्बा है, जो रहती दुनिया तक मिट नहीं सकता।
इस अवसर पर कमेटी के महासचिव स. हरमीत सिंह कालका ने बैसाखी के दिवस पर बधाई देते हुए कहा कि श्री गुरु गोबिन्द सिंह महाराज द्वारा बैसाखी वाले दिन सजाये गये संसार भी में जो प्राप्तियों प्राप्त किये हैं उससे कोई अनजान नहीं है। आज हमलोग जिन शुरवीरों, योद्धों की गाथाऐं सुनाकर स्वयं को फर्ख महसूस करते है, वह इसी दिवस की देन है। उन्होंने बच्चों के माता-पिता से अपील करते हुए कहा कि हमें अपने बच्चों को बाणी एवं बाणे (पोशाक) के साथ जोड़ना चाहिये। बच्चों के लिए इतिहास संबंधी किसी भी प्रकार की जानकारी चाहिये, उसे मुहैया करवाने के लिए दिल्ली कमेटी हर संभवस कोशिश कर रही है।
इस अवसर पर बाबा बचन सिंह कारसेवा वालों ने संगतों को नाम जपाया। दिल्ली कमेंटी द्वारा 12वीं क्लास की हुई परीक्षाओं में पंजाबी विषय में 85 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करने वाले बच्चों को सम्मानित भी किया गया। इस अवसर पर केन्द्रीय मंत्री हर्षवर्धन एंव क्षेत्र के काउंसलर स. अवतार सिंह, कमेटी के उपाध्यक्ष स. कुलवंत सिंह बाठ, सदस्य जत्थेदार अवतार सिंह हित, स. चमन सिंह, स. परमजीत सिंह चंढोक, स. परमजीत सिंह राणा, स. जतिन्दरपाल सिंह गोल्डी, स. अमरजीत सिंह पिंकी, स. जसबीर सिंह जस्सी, स. रमिन्दर सिंह स्वीटा एवं अन्य गणमान्य सज्जनां ने भी हाजरी भरी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *