Friday, September 20, 2019
Home > दिल्ली > जितेंदर सिंह शंटी नेे सरना ग्रुप के खिलाफ किए बड़े खुलासे

जितेंदर सिंह शंटी नेे सरना ग्रुप के खिलाफ किए बड़े खुलासे

संवाददाता (दिल्ली) शिरोमणी अकाली दल बादल के नेता और पुर्व विधायक स. जतिंदर सिंह शंटी ने आज यहां पर एक प्रैस कानफ्रेंस कर सरना ग्रुप के खिलाफ घोटालों के बड़े खुलासे किए।
स. शंटी ने कहा कि सरना भाईयों की तरफ से रोज़ किसी न किसी पर झूठे आरोप लगा कर प्रैस कानफ्रेंस की जाती हैं और कहा जाता है कि गुरु की गोलक लूटी जा रही है लेकिन असल में गुरु की गोलक सरना भाईयों ने 30 सालों में खूब लूटी है और 500 करोड़ रुपये तक के घोटाले इन लोगों ने दिल्ली सिक्ख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी में रहते हुए किए हैं।अहम खुलासा करते हुए स. शंटी ने बताया कि परमजीत सिंह सरना की अध्यक्षता के समय रहे महासचिव बलबीर सिंह को दशमेश पब्लिक स्कूल का आरजी चेयरमैन बनाया गया था जिस ने 30 साल से इन स्कूलों पर कब्जा कर रखा है और यहां पर बहुत बड़े स्तर पर घोटाले कर रहा है।उन्होंने बताया कि परमजीत सिंह सरना ने प्रधान होते हुए निजी स्कूलों के लिए बलबीर सिंह को बिना ब्याज के दिल्ली कमेटी का 50 लाख रुपया लोन के रुप में दिया था। उन्होंनें कहा कि कमेटी की तरफ से किसी निजी व्यापारिक अदारे को इस तरह लोन नहीं दिया जा सकता वो भी बिना किसी ब्याज के। उन्होंने और कहा कि यह लोन जनरल बॉडी से भी पास नहीं करवाया गया। स. शंटी ने यह भी बताया कि रिकार्ड में 50 लाख में से 35 लाख की वापसी नज़र आती है बाकी के बारे में कोई जानकारी नहीं।

अकाली नेता ने यह भी दोष लगाया कि बलबीर सिंह ने स्कूल में गुरुद्वारा सिंह सभा की ज़मीन पर भी कब्ज़ा कर रखा है जो करोड़ों रुपये की है।उन्होंनें और हैरानीजनक खुलासे करते हुए कहा कि बलबीर सिंह की तरफ से तीन दशमेश स्कूल – विवेक विहार, वसुंधरा एनकलेव और शालीमार बाग चलाये जा रहे है और तीन स्कूलों की प्रिंसीपल सरिता सकसैना है जो नाम बदल कर तीन स्कूलों को चला रही है। एक स्कूल में सरिता सकसैना के नाम से, एक स्कूल में प्रभप्रीत कौर और एक में प्रभप्रीत कौर सकसैना के तौर पर काम कर रही है।

उन्होनें बताया कि एक स्कूल का रिकार्ड जो हमें प्राप्त हुआ है उस के मुताबिक इस प्रिंसीपल को एक लाख अस्सी हजार रुपय प्रति महीना तनख्वाह दी जाती है।. शंटी ने बताया कि बलबीर सिंह की तरफ से अपनी बहु जसमीत कौर को स्कूल के रिकार्ड मुताबिक 40 हज़ार प्रति महीना तनख्वाह दी जाती है। उन्होनें कहा कि इसके साथ ही स्कूल की इमारतों का किराया डाल कर लाख रुपये का घोटाला किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि एक स्थान पर 48 लाख रुपये और दूसरे स्थान पर 35 लाख रुपये और 18 लाख का किराया दिखाया गया है।
पुर्व विधायक शंटी ने कहा कि अब उनकी साथ इस मामले को अदालत मे उठाया गया है और जल्दी ही सरना बंधुओं के विरुद्ध और भी बड़े खुलासे होंगे। इस समय स. शंटी के साथ स. रविंदर सिंह लवली, स. जसप्रीत सिंह विक्की, स. सुखविंदर सिंह और स. रविंदर सिंह सिबा भी हाजिर थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *