Sunday, July 21, 2019
Home > राष्ट्रीय > महिलाओं की आंतरिक आवाज़ों के मुद्दे को सुर्खियों में लाने के लिए पॉन्ड्स ने एक महत्‍वपूर्ण अभियान शुरू किया

महिलाओं की आंतरिक आवाज़ों के मुद्दे को सुर्खियों में लाने के लिए पॉन्ड्स ने एक महत्‍वपूर्ण अभियान शुरू किया

संवाददाता (दिल्ली) दुनिया के प्रमुख सौंदर्य और स्किनकेयर ब्रांडों में से एक, पॉन्ड्स ने आज एक महत्‍वपूर्ण अभियान शुरू किया है, जो महिलाओं की आंतरिक आवाज़ों के मुद्दे को सुर्खियों में – और मुख्यधारा की मीडिया में – लायेगा। यह अभियान महिलाओं को यह समझने में सक्षम करेगा कि आंतरिक आवाज़ें सार्वजनिक तौर पर कैसे सामने लायें। अभियान इन आंतरिक बाधाओं को दूर करने में मदद करेगा।

ब्रांड का मानना है कि अगर महिलाएं खुद को जीवन में और सुंदरता में सीमित करना बंद कर दें और इन आंतरिक बाधाओं पर काबू पाने की कोशिश करें तो दुनिया बेहतर जगह बन जायेगी। यह नया अभियान चार प्रमुख बाजारों – भारत, फिलीपींस, थाईलैंड और इंडोनेशिया में जून 2019 से आयोजित हो रहा है।

पॉन्ड्स ने सभी डिजिटल प्लेटफॉर्मों पर नये हीरो वाली फिल्म ‘द बॉक्सर’ का अनावरण किया। ओगिल्वी इंडिया और सिंगापुर द्वारा विकसित की गई यह फिल्म एक युवा भारतीय लड़की की दिल को छू लेने वाली, संवेदनशील कहानी है, जो मुक्केबाजी के अपने जुनून को पूरा करना चाहती है। वह अपनी मां से इस निर्णय को बताना चाहती है, लेकिन उसकी आंतरिक आवाज उसे रोक लेती है, जिससे जो वह करना चाहती है और जो वह सोचती है, उसके बीच संघर्ष पैदा होता है। फिल्म में स्थानीय प्रतिभा, खुशी जोशी ने काम किया है और हीरो मनदीप की भूमिका निभाई है। इरावती हर्षे उनकी माँ की भूमिका में हैं।
प्रभा नरसिम्हन, वाइस प्रेसिडेंट, स्किनकेयर एंड कलर्स, हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड कहती हैं कि “पॉन्ड्स भारत में एक प्रतिष्ठित ब्रांड है, जिसकी बेहतरीन विरासत और इक्विटी है। इसे एक नया रूप देते हुए हमें बहुत गर्व है, जो महिलाओं को कभी भी पीछे न रहने और जो सामने आता है, उससे निपटने के लिए प्रोत्साहित करता है।

सोशल मीडिया की ताकत का उपयोग करते हुए, हम फिल्म की तरह ही बातचीत शुरू करने की उम्मीद करते हैं। महिलाएं अभी भी अपने भीतर की आवाज़ों के कारण खुद को कहीं पीछे रुका हुआ पाती हैं और हम उन्हें अपनी कहानियाँ साझा करने के लिए प्रोत्साहित करना चाहते हैं। ‘सी ह्वाट हैपन्‍स’ का मतलब यही है।”
इस कॉन्‍सेप्‍ट को लॉन्च करने वाली कहानी एक युवा लड़की के बारे में है, जो मुक्केबाजी के प्रहारों को झेलने की ताकत तो रखती है, लेकिन अपनी माँ को यह बताने की ताकत नहीं जुटा पायी है। बॉब (शशांक चतुर्वेदी) ने कहानी को एक शक्तिशाली फिल्म में बदलने का शानदार काम किया है।”

पॉन्‍ड्स सभी उम्र की महिलाओं के बीच बातचीत शुरू करने की उम्मीद करता है कि कब और कैसे उन्होंने आंतरिक आवाज़ों का अनुभव किया, कैसे वे उन पर काबू पाने में सफल रहीं। यह सबकुछ उन सभी को, जो अब तक अपनी आवाज को अपने भीतर दबाये रखीं, प्रोत्साहित करने के प्रयास में किया जा रहा है। #SeeWhatHappens उस परिवर्तन के लिए विनम्रता से जोर लगा रहा है, जो परिवर्तन बाहर की दुनिया में नहीं, बल्कि एक महिला के भीतर की संभावनाओं को बाधारहित बनाते हुए उसके दिल और दिमाग के भीतर की दुनिया में हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *