Wednesday, February 19, 2020
Home > दिल्ली > ऐतिहासिक शीश महल पार्क को पर्यटक केन्द्र के रूप में विकास

ऐतिहासिक शीश महल पार्क को पर्यटक केन्द्र के रूप में विकास

 

संवाददाता (दिल्ली) तिलक राज कटारिया नेता सदन उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने दिल्ली के उपराज्यपाल का शीश महल पार्क, शालीमार बाग को पर्यटक स्थल के रूप में विकसित करने के आदेश जारी करने के लिए जनता की ओर से धन्यवाद देते हुये कहा है कि शीश महल का निर्माण मुगल बादशाह शांहजहा ने वर्ष 1653 में करवाकर इसे अपनी बेगम ऐजुनिशा को बतौर प्यार की निशानी भेंट किया था। यहां पर मुगल बादशाह औंरगजेब की भी ताजपोशी हुई थी। उसने एक बीस किलोमीटर लबीं सुरगं यहां से लाल किले तक आने जाने के लिए बनवायी थी जोकि समय के साथ टूट-फूट गई। यहां एक हाथी खाना, बगीचा, फव्वारे और इसके हमाम में 25 फव्वारे लगे हुये थें।
कटारिया ने कहा है कि शीश महल पर्यटक स्थल के रूप में इसके मूल स्वरूप में वापिस लाने के लिए, पुरात्तव विभाग की भी सहायता ली जायेगी। उन्होनें आशा व्यक्त की यह पार्क विकसित होने के पश्चात देशवासियों के लिए प्यार की निशानी का चिन्ह बन जायेगा। वास्तव में हमें शीश महल के रूप में एक ऐतिहासिक विरासत मिलेगी।
कटारिया ने दिल्लीवासियों से अपील की है कि वह दिल्ली में स्थित ऐसी छोटी-2 विरासतोें के विकास के लिए सामूहिक रूप से प्रसास करें। इससे दिल्ली की विश्व धरोहर के रूप में पहचान बनेगी।
कटारिया ने यह भी कहा है कि उनके द्वारा शीश महल को पर्यटक स्थल के रूप में विकसित करने का प्रस्ताव उपराज्यपाल महोदय तथा उपाघ्यक्ष दिल्ली विकास प्राघिकरण को 16 जुलाई 2019 को भेजा था जिसको की उन्होनें 17 जुलाई 2019 को ही सार्वजनिक रूप से स्वीकृति दी। यह उनके कुशल प्रशासन में जनहित के प्रति लगन का भी सबूत है। उ.दि.न.निगम की आयुक्त ने भी इस विषय में अपने स्तर पर संबंधित विभागों से सम्पर्क रखने का भी आश्वासन दिया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *