Sunday, May 31, 2020
Home > राष्ट्रीय > कोरोना वायरस से कब मिलेगी देश को मुक्ति, जानें क्या कहती है ग्रहों की चाल

कोरोना वायरस से कब मिलेगी देश को मुक्ति, जानें क्या कहती है ग्रहों की चाल

पूरी दुनिया इस समय कोरोना वायरस के खौफ में हैं। चीन, इरान, इटली के बाद अब भारत में भी कोरोना वायरस अपने पैर पसार रहा है। भारत में इस वायरस से पीड़ित करीब 50 से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं। परंतु इससे छुटकारा कब मिलेगा शायद इसका जवाब किसी के पास नहीं है। ऐसे में ज्योतिषशास्त्र की मदद से हम ग्रहों की स्थिति को जानकर इस वायरस व शेयर बाजार में मजबूती का पता लगा सकते हैं। आखिर कब तक हमें इन समस्याओं से छुटकारा मिलेगा। तो आइए जानते हैं श्री अनिल कुमार क्या कहते हैं इस बारे में…

श्री अनिल कुमार का कहना हैं की हम जानते हैं कि इन सभी सांसारिक मुद्दों पर नियोजन के इस क्षण का बहुत प्रभाव पड़ता है। मंगल ग्रह फरवरी 2020 की 8 वीं तारीख को धनु राशि में प्रवेश किया और उस समय केतु पहले से ही धनु राशि में था। आम तौर पर, जब मंगल और केतु का संयोजन होता है तो इस प्रकार का संक्रमण होता है।
शनि, निश्चित रूप से हस्ताक्षर में भी था, लेकिन वह 24 जनवरी 2020 को मकर राशि में चला गया, अब मंगल धनु राशि में केतु के साथ 24 मार्च 2020 तक रहेगा।

इसका मतलब है कि दुनिया भर में बढ़ते मामलों की संख्या पर कोरोना संक्रमण का कुछ नियंत्रण होने की संभावना है और उस समय चांदी की परत दिखाई देगी। कोरोना मामलों की बढ़ती संख्या से दुनिया को कुछ राहत मिल सकती है। इसके अलावा 30 मार्च को बृहस्पति भी मकर राशि में गोचर करने जा रहे हैं।

इसका मतलब 30 मार्च तक पर्याप्त नियंत्रण होना चाहिए। यदि हम आगे देखें, तो 14 अप्रैल को सूर्य आपके मेष राशि में प्रवेश करने जा रहा है जो कि सूर्य का उच्चाटन चिन्ह है। अगर हम इन सभी ग्रहों की गति पर गौर करें, तो हम अनुमान लगा सकते हैं कि 24 मार्च से दुनिया को कुछ राहत मिलने वाली है और 31 मार्च के बाद इस मुद्दे पर नियंत्रण हो जाएगा। 15 अप्रैल के बाद, समस्या पर नियंत्रण होगा और दुनिया स्थिति के कुल नियंत्रण में होगी।

वह आपको यह बताना चाहता है कि जहां तक भारत के चार्ट के 9 वें सदन में इस क्षण से भारत का संबंध है, इस कोरोनावायरस की गंभीरता अन्य देशों की तरह गंभीर नहीं हो सकती है। इसलिए भारत तुलनात्मक रूप से सुरक्षित भारत बना रह सकता है। हालांकि, सभी को मेडिकल और सरकार की सलाह का पालन करना होगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *