Friday, August 7, 2020
Home > राष्ट्रीय > जीके ने अफगानिस्तान में गुरद्वारे पर हुए फिदायीन हमले के बाद अफगानी राजदूत से बात की

जीके ने अफगानिस्तान में गुरद्वारे पर हुए फिदायीन हमले के बाद अफगानी राजदूत से बात की

नवगठित धार्मिक पार्टी जग आसरा गुरु ओट(जत्थेदार संतोख सिंह) ‘जागो’ के अध्यक्ष मनजीत सिंह जीके ने आज भारत में अफगानिस्तान के कार्यकारी राजदूत ताहिर कादिरी से बुधवार को काबुल के शोर बाजार में गुरद्वारा गुरु हरिराय साहिब पर हुए फिदायीन हमले में मारे गए सिखों को लेकर फ़ोन पर बात की। जीके ने हमले की निंदा करते हुए राजदूत से जिन मुद्दों पर सवाल पूछे: उसमें घायलों की संख्या,हमले का जिम्मेदार संगठन,मौजूदा समय हालात पर सरकार की पकड़ तथा इस भय के माहौल में भारत इलाज करवाने या नागरिकता लेने के लिए आने वाले सिख व हिन्दू समुदाय के लोगों की अफगान सरकार क्या मदद कर सकती है ? यहाँ बता दे कि काबुल के गुरुद्वारे पर आज तड़के आतंकवादियों ने हमला कर दिया, जो कि अपनी रोजाना की प्रार्थना के लिए जुटे थे, जिसमें कई सिखों ने अपनी जान गंवा दी और कई घायल भी हुए। जीके ने राजदूत से कहा कि दुनिया भर के सिख अफगानिस्तान में रहने वाले अपने भाइयों के बारे में गहराई से चिंतित हैं, इसलिए मैं अफगानिस्तान सरकार से अनुरोध करता हूँ कि वो उनकी रक्षा करें और इस जघन्य घटना में शामिल सभी लोगों पर सख्त कार्रवाई करें।

ताहिर कादिरी ने जीके और पूरे सिख समुदाय से अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी व्यक्तिगत रूप से स्थिति की निगरानी कर रहे है। हम सिखों और हिंदुओं की रक्षा के लिए हर सक्षम कदम उठाएगें। राष्ट्रपति ने पहले भी सिखों और हिंदुओं का समर्थन करने के लिए विभिन्न पहल और सुधार किए है तथा हमारे सुरक्षा बल अफगानिस्तान के सभी दुश्मनों पर जवाबी कार्रवाई करेंगे। हमले वाले क्षेत्र को अफगान सुरक्षा बलों द्वारा हमलावरों से मुक्त कर दिया गया है, घायलों को तत्काल उपचार देने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं और विस्तृत जांच अभी जारी है।

दिल्ली कमेटी के पूर्व अध्यक्ष जीके ने कहा कि अल्पसंख्यक समुदाय के धार्मिक स्थलों पर, विशेष रूप से कोरोना महामारी के समय, इस तरह के भयावह हमले मानव जाति के दुश्मनों की विचारधारा को चित्रित करते है। जीके ने राजदूत से सभी घायलों को प्राथमिकता के आधार पर भारत स्थानांतरित करने का अनुरोध किया। क्योंकि बेहतर स्वास्थ्य सेवा के लिए भारत सरकार ने अफगानिस्तान के हिंदू और सिख समुदाय के प्रभावित परिवारों को हर संभव सहायता देने के लिए अपनी रुचि व्यक्त की है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *