Friday, September 25, 2020
Home > ब्यापार > ट्यूलिप्‍स भारत में अत्‍यावश्यक कोविड-19 स्‍वैब्‍स विकसित करने वाला पहला ब्रांड बना

ट्यूलिप्‍स भारत में अत्‍यावश्यक कोविड-19 स्‍वैब्‍स विकसित करने वाला पहला ब्रांड बना

संवाददाता (दिल्ली) देश भर में कोरोना वायरस की तेजी से टेस्टिंग करने की आवश्‍यकता को ध्यान में रखते हुए, सुपार्श्‍व स्‍वैब्‍स (ट्यूलिप्‍स) – जो भारत का प्रमुख पर्सनल हाइजिन कंज्‍यूमर प्रोडक्‍ट इनोवेटर और तेजी बढ़ते हुए लोकप्रिय ब्रांड ट्यूलिप्‍स का ओनर है – ने आज घोषणा की कि यह अभी हर हफ्ते 2 मिलियन कोविड-19 स्‍वैब्‍स तैयार कर रहा है। कंपनी द्वारा यह भी घोषणा की गयी कि मई 2020 के अंत तक कोविड-19 स्‍वैब्‍स का इसका उत्‍पादन बढ़कर 5 मिलियन स्‍वैब्‍स प्रति हफ्ता हो जायेगा, ताकि कोविड-19 की टेस्टिंग तेजी से हो सके।

देश में कोविड-19 टेस्‍ट्स की आवश्‍यकता को पूरा करने के लिए, कंपनी द्वारा अपने प्रोडक्‍शन लाइन्‍स में बदलाव लाकर और अपनी कुछ विनिर्माण क्षमताओं के इक्विपमेंट को रीकॉन्फिगर करके स्‍वैब्‍स का निर्माण बढ़ाया जा रहा है। एशिया में कंपनी की कॉटन बड्स की स्‍थापित क्षमता सर्वाधिक है और आवश्‍यकता पड़ने पर, उपयुक्‍त समय में कोविड-19 स्‍वैब का निर्माण 30 मिलियन स्‍वैब्‍स प्रति हफ्ता करने की क्षमता इसके पास मौजूद है।
इसका उद्देश्‍य नैजल और थ्रोट स्‍वैब्‍स में देश को आत्‍मनिर्भर बनाना है। ये स्‍वैब्‍स कोविड-19 से लड़ाई लड़ने में महत्‍वपूर्ण कंपोनेंट हैं और इस तरह, ऐसे समय में देश को स्‍वैब्‍स की सप्‍लाइज के लिए दूसरे देशों पर निर्भरता कम होगी। कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए, कंपनी ने अफोर्डेबल स्‍वैब्‍स तैयार करने पर जोर दिया, क्‍योंकि घरेलू रूप से तैयार किये गये स्‍वैब्‍स की कीमत आयातित थ्रोट स्‍वैब्‍स से 1/10 कम होगी।

ट्यूलिप्‍स नॉवेल पॉलिएस्टर स्पैन स्वैब इनोवेशन में बेहतरीन कलेक्शन और रिलीज प्रॉपर्टी है। माइक्रोबायोलॉजी, आरटी-पीसीआर विश्लेषण में नमूना संग्रह में उपयोग के लिए पॉलिएस्टर फाइबर का परीक्षण और सत्यापन किया गया है।

ट्यूलिप्‍स, आईसीएमआर (इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च) और एनआईवी (नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी) को विकसित करने और प्राप्त करने के लिए सबसे पहले है, जो घरेलू रूप से निर्मित ‘पॉलिएस्टर’ स्वैब के लिए मान्य है। यह महत्वपूर्ण है क्योंकि कोविड टेस्ट स्वैब भारत में निर्मित नहीं किए गए थे, और अमेरिका या चीन से आयात किए गए थे। वैश्विक मांग बढ़ने के साथ, अन्य देशों से स्वैब प्राप्त करना कठिन और महंगा हो गया।

आज देश को कोविड-19 युद्ध से लड़ने के लिए बड़ी संख्या में स्वैब की जरूरत है। WHO के अनुसार, कोविड-19 से निपटने के लिए स्वास्थ्य प्रणालियों को फिर से संगठित करना महत्वपूर्ण है। यह कोरोनोवायरस के लिए अधिक परीक्षण और चिकित्सा विशेषज्ञों की चेतावनी के बीच महत्वपूर्ण है, जो वायरस की जांच करने की क्षमता को बढ़ाए बिना राष्ट्र की अर्थव्यवस्था को फिर से खोलना गंभीर जोखिम पैदा करता है।
सुपार्श्‍व स्‍वैब्‍स के पार्टनर, राहुल जैन ने बताया,आज का स्वास्थ्य संकट अभूतपूर्व है, इसलिए हम सभी को जहां कहीं भी मदद करनी है कर सकते हैं। जबकि हम राष्ट्रीय जरूरतों को पूरा करने के लिए दृढ़ हैं, हम दुनिया भर में दूसरों की मदद करेंगे।
हमें विश्वास है कि वर्तमान में कोविड-19 से संक्रमित लोगों का व्यापक परीक्षण हमें वर्तमान लॉकडाउन से बाहर लाएगा क्योंकि हम देश को सामान्य स्थिति में वापस लाने में मदद करने के लिए अपना काम करते हैं। हम पूरी गति से काम कर रहे हैं क्योंकि समय सार का है, और बहुत कुछ दांव पर है। हमारे समर्पित कर्मचारी नि: शुल्क उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए 24 x 7 काम कर रहे हैं। हमने 100% कपास प्रसंस्करण लाइनों को परिवर्तित करके, कोविड टेस्टिंग के लिए पॉलिएस्टर स्वैब विकसित किए हैं, 10 दिनों के भीतर फ्लैट में पॉलिएस्टर स्वैब का उत्पादन करना है। यहाँ जो कुछ अनूठा है, वह यह है कि संपूर्ण विकास हमारी अद्भुत टीम द्वारा किया गया था और परीक्षण मुख्य उत्पादन लाइनों पर किए गए थे, जिसने हमें उसी दिन उत्पादन शुरू करने में सक्षम बनाया, जब हमें आईसीएमआर की स्वीकृति मिली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *