Tuesday, October 27, 2020
Home > मनोरंजन > सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया (एसपीएन) 2020 में काम करने के लिहाज से भारत की सर्वश्रेष्ठ कंपनियों में शुमार हुई

सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया (एसपीएन) 2020 में काम करने के लिहाज से भारत की सर्वश्रेष्ठ कंपनियों में शुमार हुई

संवाददाता (दिल्ली) सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया (एसपीएन), को ग्रेट प्लेस टु वर्क इंस्टीट्यूट, इंडिया द्वारा 2020 में काम करने के लिहाज से भारत की सर्वश्रेष्ठ कंपनियों (इंडिया’ज बेस्टी कंपनीज टु वर्क फॉर 2020) में शुमार किया गया है। यह आंकड़ें भारत में काम करने के लिहाज से 100 सर्वश्रेष्ठा कंपनियों की समग्र रैंकिंग से जुटाए गए हैं। इसके लिए 21 से ज्यादा उद्योगों में 800+ संगठनों के 2.1 मिलियन से अधिक लोगों का सर्वेक्षण किया गया। द ग्रेट प्लेस टू वर्क इंस्टीट्यूट एक ऐसा संगठन है, जो भरोसेमंद संस्कृति के विकास के माध्यम से संगठनों को बेहतर कार्यस्थल की पहचान करने, बेहतर कार्यस्थ ल बनने और वैसा ही बने रहने में सहायता करता है। यह अध्ययन ऐसे संगठनों की पहचान करने के लिए सबसे सख्त, विश्वसनीय और समग्र कार्यप्रणाली के साथ किया गया था।

अपने गो-बियॉन्‍ड कॉर्पोरेट फलसफे के प्रति ईमानदार रहते हुए, भारत का प्रमुख मनोरंजन और खेल प्रसारण नेटवर्क एसपीएन हमेशा से अपने कर्मचारियों के हितों का सबसे पहले ख्याल रखने वाला संगठन रहा है। नेटवर्क सही मायनो में अपने कर्मचारियों के लिए अपने संस्थापक मूल्यों पर निर्मित एक सशक्त संस्कृति के साथ विकास को बढ़ावा देने वाले माहौल को प्रदान करने में विश्वास रखता है, जिससे अलग-अलग नजरियों को प्रोत्सारहन मिलता है। यह सहयोग को बढ़ावा देता है  और  उत्कृरष्टेता को रिवार्ड देता  है।

कर्मचारियों के महत्‍व को समझने वाला इसका नजरिया सामान्य से परे कहानी सुनाने’ के इसके विचार में भी दिखता है, जो तीन स्तंभों: थिंक,  राइज़  एवं  लिव के जरिये अभिव्यक्त होता है। यहां कर्मचारियों को सशक्त बनाया जाता है, ताकि वे अपने खुद के अनुभवों को अभिव्यक्त करते हुए अद्भुत, उत्कृष्ट और प्रगतिशील कंटेंट निर्मित कर सकें।

निम्नलिखित कुछ पहले हैं जिनकी बदौलत एसपीएन को 2020 में काम करने के लिहाज से भारत की सर्वश्रेष्ठ कंपनियों की सूची में शामिल होने का मौका मिला :

• अपनी प्रमुख इंटरप्राइज सीरीज ‘प्रोपेलर्स ’के माध्यम से, कर्मचारियों को कंपनी के लक्ष्यों को पूरा करने में सहभागी होने और सम्मान, पहचान और सीईओ से मेंटरशिप मिलने के साथ संगठन के विकास का नेतृत्व में अपनी भूमिका निभाने का अवसर मिलता है।
• मजबूत कंटेंट की संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए एसपीएन में एक आइडिएशन प्लेटफॉर्म  ‘एसपीएन पिचर्स’ है। यहां कर्मचारी नेटवर्क के प्रमुख चैनलों और कंटेंट स्टूडियो – स्टूडियोनेक्स्ट के तत्वावधान में अपने बड़े विचारों व कार्यक्रमों को पेश कर सकते हैं।
• एसपीएन लर्निंग अकादमी के माध्यम से एसपीएन, सीखने के कई अवसर प्रदान करता है। यह सभी स्तरों पर तैयार अनुभव, साथियों के साथ सीखने के मंच और ‘दास्तानगोई’ जैसी बेहतरीन कंटेंट पहलें उपलब्ध कराता है। इससे भविष्य के लिए एकदम तैयार उच्च स्तरीय कंटेंट की संस्कृति के निर्माण में मदद मिलती है। इससे लोगों, उद्देश्य, जुनून और फायदों का क्रम तय करने में मदद मिलती है, ताकि किए जा रहे कार्य का कुछ अर्थ निकाला जा सके।
• कर्मचारियों को सक्षम बनाने और उन्हें हमेशा आगे रहने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए सीखने के एक सरल और लचीले परिवेश को ई-लर्निंग अवसरों व वेबिनार के जरिये तैयार किया जाता है, ताकि पूरे संगठन में सीखने का माहौल तैयार किया जा सके।
• अपने कर्मचारियों की भलाई के लिए एक समग्र दृष्टिकोण अपनाते हुए, एसपीएन कर्मचारी सहायता कार्यक्रम (ईएपी) मुहैया करता है। इसके तहत कर्मचारियों और उनके परिवारों को जन्मजात बीमारियों के साथ बांझपन जैसी समस्या को कवर करने के लिए एक भावनात्मक और मानसिक कल्याण परामर्श सहायता सेवा प्रदान की जाती है। यही नहीं, उन्‍हें पूरी तरह से  प्रायोजित वार्षिक स्वास्थ्य जांच और मेडिकल बीमा की व्यवस्था की जाती है।
• एसपीएन विस्‍तारित पैरेंटल लीव के जरिये नए माता-पिता का समर्थन करता है। इसमें गोद लेने के लिए छुट्टी और गर्भवती महिलाओं को पहले पार्किंग की सुविधा, परिसर में माताओं के लिए एक अलग  कमरे की व्यवस्था जैसे लाभ शामिल हैं।

इसके अलावा, समावेशन के एक मजबूत पैरोकार के तौर पर एसपीएन ने अपनी नीतियों, लाभों और इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर को संशोधित किया है। जैसे, लिंग-तटस्थ भाषा, लिंग-तटस्थ वॉशरूम, और LGBTQ+ कम्‍युनिटी के सदस्‍यों सहित यूनिवर्सल पेरेंटल और चिकित्सकीय लाभ। सुरक्षात्मक उपायों के साथ-साथ कर्मचारियों को यौन उत्पीड़न की रोकथाम के बारे में गहराई से जानकारी दी जाती है। समय- समय पर होने वाले अनकॉन्‍शयस बायस जैसे संवेदनशीलता का प्रसार करने वाले प्रशिक्षण कार्यक्रम, फोकस समूह चर्चा के अलावा LGBTQ+, महिलाओं व विकलांगों के लिए पुरस्कार योजना के साथ एसपीएन अपनी संस्कृति और कंटेंट दोनों में समावेशन को बढ़ावा देता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *