Friday, October 23, 2020
Home > ब्यापार > गोदरेज सिक्‍योरिटी सॉल्‍यूशंस ने भारत का पहला प्‍लाज्‍मा आयन करेंसी स्‍टेरलाइजर – स्‍टेरिऑन लॉन्‍च किया

गोदरेज सिक्‍योरिटी सॉल्‍यूशंस ने भारत का पहला प्‍लाज्‍मा आयन करेंसी स्‍टेरलाइजर – स्‍टेरिऑन लॉन्‍च किया

संवाददाता (दिल्ली) अग्रणी भारतीय सुरक्षा समाधान ब्रांड, गोदरेज सिक्‍योरिटी सॉल्‍यूशंस ने अपने कोविड डिफेंस सिक्‍योरिटी प्रोडक्‍ट्स की रेंज के अंतर्गत, भारत का पहला प्‍लाज्‍मा आयन-आधारित कैश स्‍टेरलाइजर, स्‍टेरिऑन लॉन्‍च किया है। लॉन्‍च किये गये इस नये स्‍टेरियॉन में पेटेंटेड प्‍लाज्‍मा आयन क्‍लस्‍टर टेक्‍नोलॉजी का प्रयोग हुआ है जो नोट्स को डिटेक्‍ट करने के बाद रियल-टाइम में करेंसी को स्‍टेरलाइज करने के लिए 19 मिलियन आयन क्‍लस्‍टर्स छोड़ता है। इसमें इस्‍तेमाल किया गया एचईपीए फिल्‍टर महीन धूल कणों (PM 2.5) को कलेक्‍ट कर लेता है और 30 सेकंड के भीतर 99.9%  तक बैक्‍टीरिया और वायरसों का सफाया करता है। यह तकनीक मौजूदा कीटनाशक-आधारित विधियों से अलग है। गोदरेज सिक्‍योरिटी सॉल्‍यूशंस को वित्‍त वर्ष 2021 में रोगाणुजनक स्‍वास्‍थ्‍य सुरक्षा एवं संरक्षा बाजार के लगभग 450 करोड़ रु. तक होने का अनुमान है, जिसमें से अकेले स्‍टेरियॉन द्वारा 30 करोड़ रु. का राजस्‍व हासिल करने का अनुमान है।
गोदरेज सिक्योरिटी सॉल्यूशंस ने मौजूदा नोटों की नसबंदी के महत्व को समझने के लिए 100 बैंकरों का एक संरचित सर्वेक्षण किया। सर्वेक्षण में कहा गया है कि अधिकांश बैंकरों को विशेष रूप से कोविड-19 के समय में खुद को बचाने की सख्त जरूरत महसूस हुई। उत्तरदाताओं का 84.5% अभी भी उजागर मुद्रा नोटों से खुद को बचाने के लिए हाथ के दस्ताने का उपयोग कर रहे हैं। उत्तरदाताओं के 70% ने मुद्रा को वास्तविक समय में मुद्रा पर प्रकाश डाला और संचार रोगों के प्रसार को नियंत्रित करने का एक अधिक प्रभावी तरीका होगा।
Steri-on का उपयोग करने से बैंकिंग-रिटेल, रत्न, और आभूषण जैसे नकदी-भारी क्षेत्रों में संक्रमण का खतरा कम होगा जहां अभी भी लेनदेन का प्राथमिक और पसंदीदा तरीका नकदी में है। प्लाज्मा आयन तकनीक के साथ मुद्रा नोटों को स्टरलाइज़ करना कर्मचारियों और ग्राहकों दोनों के स्वास्थ्य को सुरक्षित और संरक्षित करेगा।
गोदरेज सिक्योरिटी सॉल्यूशंस के प्रमुख, बी 2 बी और उपाध्यक्ष, श्री पुष्कर गोखले ने लॉन्च पर टिप्पणी करते हुए कहा, “गोदरेज सिक्योरिटी सॉल्यूशंस हमेशा हमारे देश को उन समाधानों के लिए सबसे आगे रहा है, जो भारत के लिए बने हैं। राष्ट्र के धन के संरक्षक होने के अलावा, हम अब उनके स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए अपने पोर्टफोलियो का विस्तार कर रहे हैं। हमारी मौजूदा स्वास्थ्य सुरक्षा रेंज का सबसे नया उत्पाद कैश स्टर-ऑन है, जो भारत का पहला कैश स्टरलाइज़र है जो प्लाज्मा आयन तकनीक का उपयोग करता है। यह बैंक टेलर की गिनती और प्रक्रियाओं के पूरे चक्र को प्रभावित किए बिना वास्तविक समय में मुद्रा नोटों को निष्फल करने में मदद करेगा। बैंकों के एक आवश्यक सेवा होने के साथ और भारत धीरे-धीरे अनलॉक हो रहा है, हमारा मानना है कि हम भारत को समाधान की हमारी सीमा के साथ #EmergeStrongerमें मदद करेंगे।
प्लाज्मा आयन क्लस्टर शार्प जापान की पेटेंट तकनीक है और कई विश्व स्तर पर अग्रणी ब्रांड अपने एयर प्यूरीफायर और एयर कंडीशनर के लिए इसका उपयोग करते हैं। दक्षिण कोरिया की मुख्यालय वाली कंपनी, एसएमआई, ने दुनिया की पहली खुली मुद्रा स्टरलाइज़र मशीन बनाई जो प्लाज्मा आयन नसबंदी तकनीक का उपयोग करती है। गोदरेज सिक्योरिटी सॉल्यूशंस ने भारतीय बाजार में इस तकनीक को पेश करने के लिए एसएमआई के साथ सहयोग किया है। जापान, दक्षिण कोरिया, संयुक्त राज्य अमेरिका और मध्य पूर्व क्षेत्र के कई संस्थान पहले से ही इस तकनीक का उपयोग अपने मुद्रा नोटों की नसबंदी करने के लिए करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *