Monday, October 26, 2020
Home > राष्ट्रीय > 12 शहरों में बुजुर्गों को 1000 मासिक राईड निशुल्क प्रदान करने के लिए ऊबर ने हैल्पेज इंडिया के साथ साझेदारी की

12 शहरों में बुजुर्गों को 1000 मासिक राईड निशुल्क प्रदान करने के लिए ऊबर ने हैल्पेज इंडिया के साथ साझेदारी की

गुरुग्राम (संवाददाता) ऊबर इंडिया ने हैल्पेज इंडिया के साथ साझेदारी की घोषणा की। यह सुविधाओं से वंचित बुजुर्गों को सेवाएं देने के लिए एक समर्पित एनजीओ है। इस साझेदारी के तहत ऊबर अहमदाबाद, बैंगलुरू, भोपाल, भुवनेश्वर, चंडीगढ़, चेन्नई, दिल्ली-एनसीआर, हैदराबाद, कोच्चि, कोलकाता, लखनऊ और मुंबई में प्रतिमाह 1000 राईडस निशुल्क प्रदान करेगा।
ऊबर ये निशुल्क राईड सुविधाओं से वंचित बुजुर्गों की सर्वाधिक सुरक्षा सुनिश्चित करते हुए अक्टूबर से दिसंबर 2020 के बीच देगी, ताकि वो स्वास्थ्य, बचाव व राहत के अन्य उपायों का लाभ ले सकें।
यह घोषणा हर साल 1 अक्टूबर को मनाए जाने वाले ‘इंटरनेशनल डे ऑफ ओल्डर पर्संस’ (आईडीओपी) की जागरुकता बढ़ा उसमें सहयोग करेगी। इस साल आईडीओपी में कोविड-19 महामारी के दौरान बुजुर्गों को होने वाले ज्यादा जोखिम की ओर ध्यान आकर्षित किया जाएगा, तथा उनकी विशेष जरूरतों का समाधान किया जाएगा।
ऊबर के प्रयास के बारे में प्रभजीत सिंह, प्रेसिडेंट, ऊबर इंडिया एवं साउथ एशिया ने कहा, ‘‘हम हैल्पेज इंडिया के साथ साझेदारी करके काफी उत्साहित हैं। ऊबर में हम सुविधाओं से वंचित बुजुर्गों का सहयोग करने के लिए समर्पित हैं। यह समुदाय कोरोना महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है। इस चुनौतीपूर्ण समय में उनकी सेहत व सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए, हम उनकी विशेष जरूरतों के प्रति जागरुकता बढ़ाएंगे तथा ऐसे प्रोजेक्ट्स में सहयोग करेंगे, जिनसे उन लोगों की जिंदगी में सुधार आए, जिन्होंने लाखों भारतीयों को सहयोग कर फलने-फूलने में मदद की है।’’
इस साझेदारी के बारे में रोहित प्रसाद, सीईओ, हैल्पेज इंडिया ने कहा, ‘‘हम हर उम्र के लोगों के लिए मित्रवत व सहानुभूतिपूर्ण समाज बनाने के लिए ऊबर के साथ साझेदारी करने पर बहुत खुश हैं। अनेक शहरों में हैल्पेज इंडिया की नेशनल एल्डर हैल्पलाईन टीम आपातकाल के समय उन तक पहुंच रही है और वंचित समुदाय के बुजुर्गों की जरूरतों को पूरा कर रही है। संकट के दौरान समय पर सहायता पहुंचाने के लिए मोबिलिटी की उपलब्धता एक बड़ी चुनौती है, ऊबर के साथ यह साझेदारी हमें जरूरतमंद बुजुर्गों, हमारे कर्मचारियों व कार्यकर्ताओं तक समय पर सहायता पहुंचाने में मदद करेगा।’’
महामारी फैलने के बाद ऊबर ने स्थानीय अधिकारियों, सिविल सोसायटी संगठनों, राज्य सरकारों एवं मुख्यमंत्री के कार्यालयों को सहयोग करने के लिए अनेक अभियान चलाए। इस अभियान के तहत, ऊबर ने रॉबिन हुड आर्मी के मिशन 30 मिलियन प्रोजेक्ट में मदद की। यह सिविक सोसायटी द्वारा चलाए गए सबसे बड़े भोजन राहत कार्यक्रमों में से एक है। ऊबर ने नेशनल हैल्थ अथॉरिटी (एनएचए), देश में विभिन्न शहरों व राज्य सरकारों के लिए 280,000 मुफ्त ट्रिप्स की व्यवस्था की, ताकि हजारों फ्रंटलाईन हैल्थकेयर कर्मचारियों व कार्यकर्ताओं को परिवहन उपलब्ध हो। ये मुफ्त राईडस ऊबर द्वारा स्वास्थ्यकर्मियों, बुजुर्गों व जरूरतमंद लोगों को 10 मिलियन मुफ्त राईडस व फूड डिलीवरी डोनेट करने के ऊबर की ग्लोबल प्रतिबद्धता का हिस्सा थीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *