Friday, April 16, 2021
Home > ब्यापार > कारदेखोगाड़ी ने “ई फॉर एल्डरली” के साथ वरिष्ठ नागरिकों को ड्राइविंग का सुरक्षित माहौल देने के लिए अभियान चलाया

कारदेखोगाड़ी ने “ई फॉर एल्डरली” के साथ वरिष्ठ नागरिकों को ड्राइविंग का सुरक्षित माहौल देने के लिए अभियान चलाया

संवाददाता (दिल्ली) : भारत की प्रमुख फुल-स्‍टैक ऑटो टेक कंपनी कारदेखो ने आज वरिष्ठ नागरिकों के लिए सुरक्षित ड्राइविंग के माहौल को बढ़ावा देने के लिए एक मजबूत और विचारणीय कैंपेन “ई” फॉर एल्डरली को लॉन्च किया।

महामारी के कारण यात्री आजकल दूसरे व्यक्तियों के साथ सफर करने की जगह निजी वाहनों में यात्रा करने को ज्यादा प्राथमिकता देने लगे हैं। इस अभियान का लक्ष्य वरिष्ठ नागरिकों के खुद कार ड्राइव करने के प्रति महत्वपूर्ण जिम्मेदारी की भावना को बढ़ावा देना है और सड़क सुरक्षा के संवेदनशील सामाजिक मुद्दे के प्रति जागरूकता उत्पन्न करना है। कंपनी के ब्रैंड एंबेसेडर अक्षय कुमार, महेश बाबू, राहुल द्रविड़ और के. एल. राहुल भी इस नई पहल में शामिल हो गए हैं।

यह कैंपेन सभी डिजिटल प्लेटफॉर्म पर लॉन्च किया गया है। इस प्लेटफॉर्म की परिकल्पना और क्रियान्वयन लियो बर्नेट ने की थी। महामारी के कारण अब बुजुर्ग व्यक्ति कैब से यात्रा नहीं करना चाहते। अब उन्होंने खुद ही ड्राइविंग शुरू कर दी है। कंपनी उनके लिए ड्राइविंग का सुरक्षित माहौल बनाना चाहती है। जिस तरह गाड़ी पर “एल” का बोर्ड कार चलाना सीखने वाले नए लोगों के लिए लगाया जाता है, उसी तरह “ई” का बोर्ड वरिष्ठ नागरिकों के लिए लगाया जाएगा। इस कैंपेन के माध्यम से उन सभी योग्य ड्राइवरों को “ई” सिंबल लिखी हुई कार का विशेष ध्यान रखने का आग्रह किया जाएगा। इसके तहत सभी ड्राइवरों से बुजुर्ग नागरिकों की गाड़ी से बगल से अपनी कार निकालते समय विशेष सावधानी बरतने की अपील की जाएगी।

अभियान के तहत बुजुर्गों के पारिवारिक सदस्यों को वरिष्ठ नागरिकों के कार की विंडशील्ड या बैकग्लास पर “ई” सिंबल लगाने के लिए कहा गया है, जिससे सड़क पर दूसरे ड्राइवरों को यह चेतावनी दी जा सके कि यह गाड़ी वरिष्ठ नागरिक चला रहे हैं, इसलिए वह उनकी गाड़ी के पास से अपनी कार निकालने में सावधानी बरतें।

इस कैंपेन के लॉन्‍च पर कार देखो ग्रुप के चीफ मार्केटिंग अफसर गौरव मेहता ने कहा, “इस अभियान में ब्रैंड की विचारधारा की झलक मिलती है। कंपनी सभी के लिए समग्र रूप से गाड़ी चलाते समय व्यक्तिगत रूप से सुरक्षित देखभाल का वातावरण बनाना चाहती है। आज जिस तरीके से हम लोग रह रहे हैं, उसमें एक बड़ा बदलाव आया है। हम सभी को सुरक्षित महसूस कराना चाहते हैं और एक ऐसा माहौल बनाना चाहते हैं, जिसमें सभी को, खासतौर से वरिष्ठ नागरिकों को बिना किसी परेशानी के ड्राइविंग का अनुभव मिल सके। हमें उम्मीद है कि इस अभियान से सड़क पर कार ड्राइव करने वालों के व्यवहार में साधारण बदलाव देखने को मिलेगा और वह सड़क पर कार ड्राइव कर रहे बुजुर्गों के प्रति ज्यादा सहानुभूति रखेंगे।”

लियो बर्नेट में दक्षिण एशिया के सीईओ और चीफ क्रिएटिव ऑफिसर राजदीपक दास ने कहा, “ई फॉर ईल्डरली” इस बात का शानदार उदाहरण है कि कैसे एक साधारण सा आइडिया एक बड़ा बदलाव ला सकता है। महामारी के कारण निजी गाड़ी से यात्रा करने वाले लोगों की संख्या बढ़ी है। इसमें हमारे वरिष्ठ नागरिक भी शामिल हैं, जिन्होंने इस महामारी के माहौल में एक बार फिर ड्राइविंग की कमान संभाली है। लेकिन हम कैसे सड़क पर ड्राइव कर रहे दूसरे लोगों को उन वरिष्ठ नागरिकों के प्रति संवेदनशील और उदार बनाएंगे, जिन्होंने काफी लंबे समय के बाद एक बार फिर ड्राइविंग सीट संभाली है। इसलिए हमने बुजुर्ग ड्राइवरों के लिए “ई” का चिन्ह बनाया है। फैमिली के सदस्य “ई” को पेपर पर लिखकर, प्रिंट कर या टेप के प्रयोग से अपने घर के बुजुर्ग सदस्यों की गाड़ी पर “ई” चिपका सकते हैं। हम कार देखो की इस पहल का हिस्सा बनकर काफी गर्व महसूस कर रहे है और हमें उम्मीद है कि इस अभियान से सड़क पर बुजुर्गों के प्रति व्यवहार में सकारात्मक अंतर आएगा।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *