Home > आपका संवाद

ताकि सिर्फ डिग्रीधारी न बनें बच्चे

विश्वजीत राहा (स्वतंत्र टिप्पणीकार) वोट बैंक के जरिये सत्ता हासिल करने की सियासत ने इन दिनों इतना शोर मचा रखा है कि सरकार के अच्छे कार्यों की चर्चा अब कम ही हो पाती है। बीते संसद सत्र में लोक कल्याण से जुड़े कई महत्त्वपूर्ण विधेयक पारित हुआ, पर चर्चा वोट बैंक

Read More

सवर्ण आरक्षण से उपजे सवाल

विश्वजीत राहा (स्वतंत्र टिप्पणीकार) अपने कार्यकाल के अंतिम सत्र में मोदी सरकार ने सवर्णों के लिए तथाकथित आरक्षण का मास्टर स्ट्रोक खेल कर सभी विपक्षी पार्टियों को सकते में डाल दिया। द्रमुक व राजद जैसी क्षेत्रीय पार्टियों को छोड़कर कोई भी विपक्षी पार्टी इस बिल को विरोध करने का हिम्मत तक

Read More

वैवाहिक मूल्यों में घटती निष्ठा

डॉ कामिनी वर्मा भदोही ( उत्तर प्रदेश ) भारतीय संस्कृति आध्यात्मिकता पर आश्रित है। मानव जीवन का वास्तविक सुख, शांति और समृद्धि आध्यात्मिकता में निहित है। यहां जीवन का प्रत्येक कार्य व्यापार धर्म से आच्छादित है। धर्म से मेरा आशय हिन्दू, मुस्लिम सिख, इसाई से न होकर मानव धर्म से है, जीवन

Read More

मानव अधिकार दिवस पर विशेष- 10 दिसंबर मानव अधिकारों के जागरुकता का दिन

लाल बिहारी लाल (दिल्ली) आज मानव के अधिकारों के संरक्षण का संवैधानिक दर्जा पूरी दुनिया प्राप्त है। मानवअधिकारों से अभिप्राय''मौलिकअधिकारों एवं स्वतंत्रत से है जिसके सभी मानव प्राणी समान रुप से हकदार है। जिसमेंस्वतंत्रता, समाजिक ,आर्थिक औऱ राजनैतिक रूप में देना है। जैसे कि जीवन और आजादरहने का अधिकार, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और कानून

Read More

गुदरी के लाल – देशरत्न डा.राजेन्द्र प्रसाद

लाल बिहारीलाल गुदरी के लाल देशरत्न डा.राजेन्द्र प्रसाद का जन्म 3दिसम्बर1884 को बिहार केतत्कालिन सारणजिला(अबसीवान)के जीरादेईगांवमें एक कायस्थ परिवार में हुआ था।इनके पिता महादेव सहाय हथुआ रियासत के दीवन थे। अपने पाँच भाई-बहनों में वे सबसेछोटे थे इसलिए पूरे परिवार में सबके लाडले थे। इन्हें चाचा भी काफी लार प्यार करतेथे। राजेन्द्रबाबू के पिता महादेव

Read More

हिन्दीके सर्वाधिक लोकप्रिय कवि – हरिवंश राय बच्चन

लाल बिहारी लाल  हरिवंश राय बच्चन का जन्म 27 नवंबर 1907 में इलाहाबाद से सटे जुलाप्रतापगढ़ के एक छोटे से गाँव बाबूपट्टीमें एक कायस्थ परिवार मे हुआ था। इनके पिता का नाम प्रताप नारायण श्रीवास्तव तथा माता का नाम सरस्वती देवी था। इनको बाल्यकाल में 'बच्चन' कहा जाता था जिसका शाब्दिक अर्थ 'बच्चा' या संतान

Read More

बच्चों के चाचा-जवाहर लाल नेहरू

लाल बिहारी लाल (दिल्ली) बच्चे हर देश का  भविष्य और उसकी तस्वीर होते हैं. बच्चे ही किसी देश के आने वाले भविष्य को तैयार करते हैं. लेकिन भारत जैसे देश में बाल मजदूरी, बाल विवाह और बाल शोषण के तमाम ऐसे अनैतिक और क्रूर कृत्य मिलेंगे जिन्हें देख आपको यकीन नहीं होगा कि यह वही

Read More

पहली महिला प्रधानमंत्री औऱ आयरन लेडी- इंदिरा गांधी

लाल बिहारी लाल आयरन लेडी इंदिरा गांधी का जन्म देश के एक आर्थिक एंव बौद्धिक रुप से सभ्रांत परिवार में पं. जवाहरलाल नेहरु के घऱ में 19 नवंबर 1917 को इलाहाबाद के आनंद भवन में हुआ था। इनके माता का नाम कमला नेहरु तथा दादा का नाम पं. मोती लाल नेहरु

Read More

Interview with Siddharth Singh Head of Corporate Affairs, Communications and Administration at Tata Power-DDL

Mr. Siddharth Singh is the Head - Corporate Affairs, Communications and Administration at Tata Power-DDL. He is responsible for managing key external stakeholders of the company.  He ensures the leadership team and the entire organization is aligned with company’s messages and actions across all stakeholders. He manages consistency over brand,

Read More

स्वतंत्रता आन्दोलन में गांधी जी का योगदान

लाल बिहारी लाल मुगल साम्राज्य से जब सता अंग्रैजो के हाथ में गई तो पहले अंग्रैजों का व्यापारिक उदेश्य था पर धीरे-धीरे उनका राजनैतिक रुप भी समने नजर आने लगा। और वे अपने इस कुटिल चाल में कामयाब भी हो गये ।धीरे –धीरे उनके क्रिया-कलापों के प्रति जन मानस में असंतोष की भावना पनपने लगी

Read More