Home > आपका संवाद

साईबर धोखे का शिकार होने से बचें

हम टेक्नॉलॉजी के युग में जी रहे हैं, जहां हम पहले से ज्यादा कनेक्टेड हैं। चाहे इन्फॉर्मेशन हो, उत्पाद या सेवाएं, हमें हर चीज़ हर जगह और हर वक्त उपलब्ध है। आज टेक्नॉलॉजी ने उपभोक्ताओं को पारंपरिक ऑफलाईन माध्यमों से गतिशील ऑनलाईन दुनिया में लाकर खड़ा कर दिया है। दुनिया में सबसे तेजी से विकसित होते हुए रिटेल बाजारों में से एक के रूप में हमारे देश में डिजिटल खरीददारों की संख्या 2020 तक 330 बिलियन तक पहुंचने का अनुमान है। आने वाले सालों में यह संख्या कई गुना ज्यादा बढ़ जाएगी। जहां एक तरफ तेजी से होते डिजिटल परिवर्तन के अनेक फायदे हैं, तो वहीं ई-वर्ल्ड ने साईबर धोखाधड़ी के द्वार भी खोल दिए हैं। इस साल टेकआर्क की एक रिपोर्ट में सामने आया कि 2018 में ईकॉमर्स ने भारत में होने वाले कुल एड धोखाधड़ी में 51 प्रतिशत से ज्यादा योगदान दिया। एक दूसरी रिपोर्ट में दावा किया गया कि भारत दुनिया में सर्वोच्च फिशिंग होस्टिंग देशों की सूची में दूसरे स्थान पर है। जोखिम स्पष्ट है और बिना सावधानी के आप साईबर धोखाधड़ी के शिकार हो सकते हैं। इसलिए यहां आपको कुछ सावधानियों के बारे में बताया जा रहा है। सबसे पहली सावधानी यह बरतें कि अपनी पर्सनल बैंकिंग एवं सिक्योरिटी डिटेल्स की जानकारी, जैसे पासवर्ड, ओटीपी किसी भी टेलीकॉलर या किसी अन्य को न बताएं, क्योंकि ई-कॉमर्स या इंटरनेट कंपनी का कोई भी कस्टमर सपोर्ट सेंटर कभी भी आपसे आपकी पर्सनल बैंकिंग की जानकारी नहीं मांगता। इस नियम का कड़ा पालन करें। इसके अलावा मेकमाईट्रिप आपको कुछ सुझाव दे रहा है, जिनकी मदद से आप खुद को साईबर धोखे का शिकार होने से बचा सकते हैं – आपको गूगल सर्च परिणाम या सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स द्वारा मिलने वाले जाली कॉन्टैक्ट नंबर्स के प्रति सतर्क रहना चाहिए। ई-कॉमर्स/इंटरनेट कंपनी से सदैव उनके रजिस्टर्ड या आधिकारिक कस्टमर केयर नंबर पर ही संपर्क करें। इसलिए कस्टमर केयर नंबर डायल करने से पहले उसे दोबारा जाँच कर नंबर की पुष्टि कर लें। किसी भी टेलीकॉलर के निवेदन पर ऐप्स इंस्टॉल न करें क्योंकि इसका उपयोग जालसाज आपके सेव किए गए कार्ड/खाते की जानकारी प्राप्त करने तथा आपके फोन को दूर से ही नियंत्रित करने के लिए कर सकते हैं। आपको अपने क्रेडिट कार्ड, बैंकिंग का विवरण या भुगतान संबंधी जानकारी केवल ईकॉमर्स/इंटरनेट कंपनी की सुरक्षित वेबसाईट के माध्यम से विनिमय करते वक्त ही देनी चाहिए। अनपेक्षित ईमेल या टेलीकॉलर्स के माध्यम से किसी भी तरह के निवेश के ऑफर का उत्तर देने के दौरान सावधानी बरतें। बहुत अच्छी दिखने वाली डील्स पर प्रतिक्रिया देते वक्त बहुत सावधान रहने की जरूरत है, क्योंकि कई बार जालसाज फिशिंग के प्रयास के तहत आपको बेहतरीन डील या ऑफर दे सकते हैं। अंत में सबसे जरूरी बात। आप खुद वॉचडॉग बनकर सुरक्षा बनाए रखने में योगदान दे सकते हैं। यदि आपके कोई व्यक्ति आपकी गोपनीय जानकारी मांगे, तो आपको फौरन इंटरनेट कंपनी को सूचित करना चाहिए या अपने बैंक को तत्काल इसकी सूचना देनी चाहिए। जब भी आप ई-शॉपिंग करें, आपको उपरोक्त बातें ध्यान में रखनी चाहिए, जिससे आप उन साईबर अपराधियों से सुरक्षित रहेंगे, जो आपके बैंक खाते या वॉलेट से पैसे चुराने की ताक में रहते हैं।

Read More

सेहत के लिए हानिकारक है- प्लास्टिक इससे बचे

लाल बिहारी लाल आज भागमभाग भरी  जिंदगी  में  मानव इस कदर उलझ  गया   है  कि  वो न अपने सेहत  पे औऱ  नाहीं प्रकृति  को बचाने  के प्रति ध्यान दे पाता हैं। इसके परिणामस्वरुप वातावरण  दूषित और  स्वंय  बिमार  रहने  लगा है। यूं तो प्रकृति  को सबसे ज्यादा खतरा  प्रदूषण से है

Read More

70 साल का राष्ट्र विरोधी विभाजन एक झटके में समाप्त – मोदी है तो मुमकिन है

तिलक राज कटारिया कुछ ऐसे हादसात भी गुजरे हैं तारीख में, लम्हों ने खता की थी, सदियों ने सजा पाई, और यही हुआ है हमारे आजाद भारत के साथ। वह लम्हें जिनमें कि कश्मीर की जीती हुई बाजी को संयुक्त राष्ट्र में मध्यस्थता हेतु भेजकर देश के सीने में एक नासूर कर दिया

Read More

पर्यावरण

तिलक राज कटारिया, नेता सदन, उत्तरी दिल्ली नगर निगम वर्तमान समय में दिन प्रति दिन पृथ्वी का तापमान और ग्रीन हाउस गैसों की मात्रा बढ़ती ही जा रही है। इन सबके विपरीत प्रभाव भी हमारी आंखों के सामने है। कहीं बाढ़, कहीं सुखा, तुफान, आगजनी व सुनामी जैसी आपदाएं आए दिन विकराल रूप

Read More

मानसिक विकृति के लिए दोषी कौन?

शम्भू पंवार समाज में बढ़ती मानसिक विकृति के लिए सही मायने में दोषी कौन है? समाज के बुद्धिजीवी वर्ग को इस विषय में गहरा चिंतन करना होगा। नारी को जहां एक शक्ति का रूप माना जाता है। उसी शक्ति को वर्तमान हालात में आए दिन वहशी दरिंदे अपनी हवस का शिकार

Read More

विकास के लिए जनसंख्या दर को कम करना होगा

लाल बिहारी लाल  सन 1987 में विश्व की जनसंख्या 5 अरब को पार गई तभी से सारी दुनिया में जनसंख्या रोकने के लिए जागरुकता की शुरुआत के क्रम में 1987 से हर वर्ष 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस मनाते हैं। आज सारी दुनिया की 90% आबादी इसके 10% भाग में निवास करती है। विश्व

Read More

छोटे-छोटे प्रयासों से पर्यावरण बचाया जा सकता है- लाल बिहारी लाल

इस संसार में कई ग्रह एवं उपग्रह हैं पर पृथ्वी ही एक मात्र ऐसा ग्रह है जिस पर जीवन एवं जीव पाये जाते हैं। धरती कभी आग का गोला था, जलवायु ने इसे रहने लायक बनाया और प्रकृति ने मुनष्यों सहित समस्त जीवों, पेड़-पौधों का क्रमिक विकास किया। प्रकृति और

Read More

पर्यावरण संरक्षण में महिलाओं की भूमिका

डॉ दीपा शुक्ला आवास विकास कालोनी लखीमपुर- खीरी पर्यावरण के संरक्षण में महिलाओं की अहम भूमिका रही है। अलग -अलग विद्वानों ने अपने ढंग से पर्यावरण संरक्षण में महिलाओं की भूमिका को परिभाषित किया है। कार्ल मार्क्स के अनुसार,"कोई भी बड़ा सामाजिक परिवर्तन महिलाओं के बिना नहीं हो सकता है।",कोफ़ी अन्नान के अनुसार,

Read More

स्वीकार करो मेरा नमन, बंदन ब अभिनन्दन

विनोद तकिया वाला स्वतंत्र पत्रकार   मैं नत मस्तक हूँ... भारत के जनमानस के समक्ष.... जनमानस ... जिसे बरगलाने में राहुल- ममता- माया - ओबैसी - जाति- धर्म के ठेकेदारों ने कोई कमी नहीं छोड़ी... मैं नत मस्तक हूँ..... काल के कपाल के समक्ष..... कपाल... जिस पर आज मेरे भारत की नई इबारत लिखी गई.... मंदिर के घण्ट

Read More