Home > आपका संवाद (Page 5)

कांग्रेस को मंथन करना जरुरी

मानव नागर कांग्रेस हमारे देश की सबसे पुराना राजनैतिक दल है, कांग्रेस में जितने अनुभवी और ज्ञानी राजनीतिज्ञ है उतने अन्य दलों में नहीं| पर ऐसा लगता है कांग्रेस में राजनीती अन्य दलों की बजाये अपने ही अंदर खेली जा रही है | गुजरात हिमाचल क्यू हारी इसके कारन अनेक हैं,

Read More

जब राहुल गांधी ने मां की पेशानी चूमी

फ़िरदौस ख़ान कांग्रेस की वरिष्ठ नेता श्रीमती सोनिया गांधी ने बीते शनिवार को अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के मुख्यालय में आयोजित एक समारोह में राहुल गांधी को पार्टी के अध्यक्ष पद की ज़िम्मेदारी सौंपी। इस मौक़े पर राहुल गांधी ने अपनी मां की पेशानी (माथे) को चूमकर अपने जज़्बात का इज़हार

Read More

राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष बने

फिरदौस ख़ान एक लम्बे इंतज़ार के बाद आख़िरकार राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष बन गए। पिछले काफ़ी अरसे से पार्टी में उन्हें अध्यक्ष बनाए जाने की मांग उठ रही थी। कांग्रेस नेताओं का मानना था कि पार्टी की बागडोर अब राहुल गांधी के सुपुर्द कर देनी चाहिए। सोमवार को पार्टी अध्यक्ष

Read More

10 दिसंबर मानव अधिकारों के जागरुकता का दिन

लाल बिहारी लाल  आज मानव के अधिकारों के संरक्षण का संवैधानिक दर्जा पूरी दुनिया प्राप्त है। मानव अधिकारों से अभिप्राय ''मौलिकअधिकारों एवं स्वतंत्रता से है जिसके सभी मानव प्राणी समान रुप से हकदार है। जिसमें स्वतंत्रता, समाजिक ,आर्थिक औऱ राजनैतिक रूप में देना है। जैसे कि जीवन और आजाद रहने का

Read More

गोडसे को नायक बनाने की कोशिश

विश्वजीत राहा (स्वतंत्र टिप्पणीकार) जिस वक्त आप टीवी के स्क्रीन से चिपक कर रानी पद्यावती पर छिड़े छद्य जंग का लुत्फ ले रहे थे, जिस वक्त राजपूतों के विभिन्न संगठनों के द्वारा फिल्म निर्माता संजय लीला भंसाली के सर कलम करने पर ईनामों व दीपिका पादुकोण की नाक काट कर सूर्पनखा

Read More

आधुनिक भारत के निर्माता- बाबाभीमराव अंबेडकर

लाल बिहारी लाल बाबा साहव डा. भीमराव अंबेडकर दलितों के अभिमन्यु संविधान के वास्तुकार और युग निर्माता थे। डा. अंबेडकर का जन्म 14अप्रैल1891 में आधुनिक मध्य प्रदेश के मऊ नामक स्थान पर हुआ था । महार परिवार में जन्में डा.अंबेडकर के पिता राम जी सकपाल ब्रिटीश फौज में सुबेदार थे जबकि

Read More

ग़ज़ल- असर था असर रह गया,

रश्मि शुक्ला                        पीलीभीत ( उत्तर प्रदेश ) बिन तेरे न ही मंजिल मिली, जो सफर था सफर रह गया, तुम बदलने लगे इस तरह, जो असर था असर रह गया, बिन तेरे न ही मंजिल मिली, जो सफर था सफर रह गया, तुमने छोड़ा भी ऐसे

Read More

गुदरी के लाल – देशरत्न डा.राजेन्द्र प्रसाद

लाल बिहारीलाल गुदरी के लाल देशरत्न डा.राजेन्द्र प्रसाद का जन्म ३ दिसम्बर1884 को बिहार के तत्कालिन सारण जिला(अबसीवान)के जीरादेई गांवमें एक कायस्थ परिवार में हुआ था।इनके पिता महादेव सहाय हथुआ रियासत के दीवन थे। अपने पाँच भाई-बहनों में वे सबसे छोटे थे इसलिए पूरे परिवार में सबके लाडले थे। इन्हें चाचा

Read More

दिव्यांग लोगों के लिए यात्रा सक्षम करनाः आसान नहीं, लेकिन संभव है

3 दिसंबर को वल्र्ड डिसएबिलिटी डे के अवसर पर, यहां प्रस्तुत है दिव्यांग लोगों के लिए भारत को अधिक सुगम बनाने के लिए उठाए गए नवीन कदमों और अनूठी पहल की जानकारी। देबोलिन सेन का एक लेख, जो कि भारत के नवीनतम सुलभ पर्यटन मंच इनेबल ट्रैवल के एक विशेषज्ञ

Read More

गजल – प्रोफेसर लता चौहान (बेंगलुरु)

लिखा मुझे है कई बार और मिटाया है मै ऐसा लफ्ज हूँ जिसको न पढ वो पाया है वो आजमा रह था मेरी बेक़रारी को फिर आजमा के मुझे साथ मेरे रोया है मिले जो गम से फुर्सत तो मै पूछू हाल उसका के इस शबे गम ने उसको बहुत सताया है मुझे तडप से वास्ता है।

Read More