Home > लेख

पुण्यतिथि 24 अप्रील पर विशेष (राष्ट्रकविः रामधारी सिंह दिनकर)

लाल बिहारी लाल आधुनिक हिंदी काव्य में राष्ट्रीय सांस्कृतिक चेतना का शंखनाद करने वाले तथा युग चारण नाम से विख्यात । दिनकर जी का जन्म 23 सितम्बर 1908 ई0 को बिहार के तत्कालीन मुंगेर(अब बेगुसराय) जिला के सेमरिया घाट नामक गॉव में हुआ था। इनकी शिक्षा मोकामा घाट के स्कूल तथा

Read More

सतरगी रंगो और उमंगों का पर्व है होली -लाल बिहारी लाल

भारत में फागुन महीने के पूर्णिंमा या पूर्णमासी के दिन हर्षोउल्लास से मनाये जाने वाला रंगों से भरा हिदुओं का एक प्रमुख त्योहार है। लोग इस पर्व का इंतजार बड़ी उत्सुकतापूर्वक करते है और उस दिन इसे लजीज पकवानों और रंगों के साथ धूमधाम से मनाते है। बच्चे सुबह-सुबह ही

Read More

आगामी मानसून: कृषि एवं संबंधित उद्योगों के लिये वरदान

आरजी अग्रवाल धानुका एग्रिटेक लिमिटेड (ग्रुप चेयरमैन) भारतीय कृषि क्षेत्र को अत्यधिक प्रभावित करने में मानसून एक प्रमुख कारक है। अध्ययनों में पता चला है कि इस सेक्टर ने पिछले दो सालों (2016 और 2017) से निरंतर वृद्धि के संकेत दिखाये हैं। भारतीय मौसम विभाग (आइएमडी) ने इस साल एक ‘सामान्य माॅनसून‘

Read More

विश्व पृथ्वी दिवस पर विशेष

लाल बिहारी लाल देश दुनिया में पर्यावरण का तेजी से क्षति होते देख अमेरिकी सीनेटरजेराल्ट नेल्सन ने 7 सितंबर 1969 को घोषणा की कि 1970 के बसंत में पर्यावरण पर राष्ट्रब्यापी जन साधारण प्रदर्शन किया जायेगा। उनकी मुहिम रंग लायी औरइसमें 20 लाख से अधिक लोगो ने भाग लिया। और उनके

Read More

अशुभ सत्र

मोहम्मद अबू उस्मा                                                             सदन में बहस ना होने से वक्त की बर्बादी जरूर हो सकती है मगर मंत्रियों का नहीं। एक

Read More

सांसदों पर ‘नो वर्क नो पे’ क्यों न लागू हो?

विश्वजीत राहा (स्वतंत्र टिप्पणीकार) हमेशा सुर्खियों में रहने वाले दिल्ली से आम आदमी पार्टी के नव निर्वाचित राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने पिछले दिनों ऐलान किया है कि अगर वे संसद में काम नहीं करेंगे तो संसद से वेतन भत्ता भी नहीं लेंगे। दरअसल संजय सिंह ने राज्यसभा के सभापति वेंकैया

Read More

आजादी के महान नायक – सरदार भगत सिंह

लालबिहारी लाल भगत सिंह का जन्म एक सिख परिवार में 28 सितम्बर 1907 को हुआ था। उनके पिता का नाम सरदार किशन सिंह और माता का नाम विद्यावती कौर था। भगत सिंह बाल्य काल से ही अपने चाचा के पुस्तकालय से क्रातिकारी किताबे पढते थे पर इसके समर्थक नहीं थे। लेकिन

Read More