Thursday, May 6, 2021
Home > ब्यापार > ओर्बिस और क्वालिटी एण्ड एक्रेडिटेशन इन्सटीट्यूट ने कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए नेत्र अस्पतालों के लिए जारी किए निर्देश

ओर्बिस और क्वालिटी एण्ड एक्रेडिटेशन इन्सटीट्यूट ने कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए नेत्र अस्पतालों के लिए जारी किए निर्देश

संवाददाता (दिल्ली) ओर्बिस ने 12 नवम्बर विश्व गुणवत्ता दिवस के मौके पर देश के आफ्थेल्मोलोजी अस्पतालों/क्लिनिकों के लिए व्यापक दिशानिर्देशों का सेट जारी करने के लिए क्वालिटी एण्ड एक्रेडिटेशन इन्सटीट्यूट के साथ साझेदारी की है।
देश भर में आफ्थेल्मोलोजी और क्वालिटी (नेत्र रोग विज्ञान एवं गुणवत्ता) के विशेषज्ञों द्वारा संसाधनों का गठन किया गया है, जिसकी समीक्षा डाॅ पतंजली देव नायर, रीजनल एडवाइजर; अपंगता एवं चोट की रोकथाम और पुनर्वास विभाग, स्वस्थ आबादी एवं गैर संचारी रोग विभाग, विश्व स्वास्थ्य संगठन के दक्षिण-पूर्वी एशियाई कार्यालय, नई दिल्ली तथा कई उत्कृष्टता केन्द्रों द्वारा की गई जिसमें अरविन्द आई हाॅस्पिटल, एलवी प्रसाद आई इन्सटीट्यूट, डाॅ राजेन्द्र प्रसाद सेंटर फाॅर आॅफ्थेल्मिक साइन्सेज़, एम्स और संकरा नेत्रालय द्वारा की गई।
इन दिशानिर्देशों का लाॅन्च करते हुए डाॅ प्रोमिला गुप्ता, प्रिंसिपल कन्सलटेन्ट, स्वास्थ्य सेवाओं के महानिदेशक एवं मुख्य अतिथि ने कहा, ‘‘स्वास्थ्यसेवा प्रणाली महामारी के प्रभावों से निपटने के लिए बदलाव ला रही है, ऐसे में ज़रूरी है कि सरकार द्वारा जारी कोविड निर्देशों के अनुरूप आईकेयर गतिवधियों में भी व्यापक बदलाव लाए जाएं। ओर्बिस और क्यूएआई द्वारा नेत्र चिकित्सा पेशेवरों के लिए जारी निर्देश एक व्यापक एवं मानक दस्तावेज है, मरीज़ों और उनकी देखभाल करने वाले परिवारजनों की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए चिकित्सकों द्वारा इनका अनुपालन करना अनिवार्य है। यह देश के सभी नेत्र चिकित्सालयों एवं क्लिनिकों के लिए गठित व्यापक दृष्टिकोण है, जिसका उन्हें पालन करना चाहिए।’’
ओर्बिस और क्यूएआई द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में स्वास्थ्यसेवा जगत के दिग्गजों ने हिस्सा लिया। इनमें डाॅ पतंजली देव नायर, डाॅ जे एल मीना, संयुक्त निदेशक, राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण, डाॅ पीटर लैशमैन, सीईओ इसक्युआ, डाॅ बीके राना, मिस अरलीन लोज़ानो, वाईस प्रेज़ीडेन्ट, प्रोजेक्ट डेवलपमेन्ट एण्ड क्वालिटी अश्योरन्स, ओर्बिस इंटरनेशनल, श्री हंटर चेरवेक, वाईस प्रेज़ीडेन्ट, क्लिनिकल सर्विसेज़, डाॅ जी एन राव, संस्थापक, चेयरमैन, एलवी प्रसाद आई इंस्टीट्यूट, डाॅ आर डी रविन्द्रम, चेयरमैन, अरविन्द आई केयर सिस्टम, प्रोफेसर प्रवीण वशिष्ठ, ऑफिसर इन-चार्ज, कम्युनिटी आफ्थेल्मोलोजी, डाॅ आर पी सेंटर फाॅर आफ्थेल्मिक साइन्सेज़, एम्स और डाॅ टीएस सुरेंद्रन, वाईस-चेयरमैन, संकरा नेत्रालय आदि शामिल थे।
इन दिशानिर्देशों के बारे में बात करते हुए डाॅ नायर ने कहा, ‘‘यह दस्तावेज आम स्वास्थ्यसेवा क्षेत्र तथा नेत्र चिकित्सा सुविधाओं में कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रथाओं का संकलन है। दिशानिर्देशों का यह व्यापक संकलन विभिन्न राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय सगठनों जैसे विश्व स्वास्थ्य संगठन, नेत्र चिकित्सालयों एवं क्लिनिकों के संदर्भों पर आधारित है, ताकि नेत्र क्लिनिकों और चिकित्सालयों के सुरक्षित संचालन को सुनिश्चित किया जा सके। मुझे उम्मीद है कि ये दिशानिर्देश नेत्र चिकित्सा अस्पतालों एवं क्लिनिकों के लिए बेहद फायदेमंद साबित होंगे और साथ ही नागरिकों की स्वास्थ्य संबंधी ज़रूरतों को पूरा करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। मैं क्यूएआई और ओर्बिस को बधाई देता हूं जिन्होंने इतने महत्वपूर्ण निर्देश विकसित करने की यह पहल की है।’’
ओर्बिस-क्यूएआई द्वारा जारी ये निर्देश सलाह एवं कार्य योजना का संयोजन है, जिसका पालन नेत्र चिकित्सालयों, आउटरीच क्लिनिकों/ विज़न सेंटरों को करना चाहिए ताकि कोविड-19 के कारण के प्रसार को रोकने में मदद मिल सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *